महाराष्ट्र से बिहार तक चलेगी देश की पहली 'किसान रेल'



नई दिल्ली: देश में किसानों को आर्थिक रूप से मजबूत करने के लिए केंद्र सरकार ने इस साल से किसान रेल (Kisan Rail) शुरू करने की घोषणा की थी. अब इस ऐलान को अमली जामा पहनाते हुए भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने 7 अगस्त यानि आज से किसान रेल सेवा शुरू करने की घोषणा की है. इस नए सेवा में देश के कई राज्यों के किसानों को सीधा फायदा मिलेगा.

महाराष्ट्र से बिहार के बीच दौड़ेगी पहली किसान रेल सेवा

जानकारों का कहना है कि किसान रेल की शुरुआत महाराष्ट्र से बिहार के बीच हो रही है. भारतीय रेलवे ने पहली किसान रेल को महाराष्ट्र के देवलाली रेलवे स्टेशन (Devlali Railway Station) से बिहार स्थित दानापुर रेलवे स्टेशन (Danapur Railway Station) तक चलाने का फैसला किया है. 7 अगस्त यानि आज पहली किसान रेल (First Kisan Rail) देवलाली से छूटकर दानापुर पहुंचेगी. किसान रेल इन दो स्टेशनों के बीच लगभग 1519 किमी का सफर करीब 32 घंटे में तय करेगी.

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने वादा किया था कि किसानों की आमदनी दोगुनी की जाएगी. किसान रेल सेवा उसी दिशा में एक प्रयास है. रेल मंत्रालय (Railway Ministry) और कृषि मंत्रालय ने मिलकर किसानों की उपज को सीधे बाजार में पहुंचाने के लिए पहली किसान ट्रेन की शुरुआत की है. कृषि मंत्री ने आगे बताया क इसके नतीजे अच्छे आने के बाद देशभर में इस तरह की किसान ट्रेनें चलाई जाएंगी. ताकि किसानों को उनकी फसल का अच्छा फायदा मिल सके.

ये होगा किसान रेल का रूट

देवलाली - नासिक रोड, मनमाड, जलगांव, भुसावल, बुरहानपुर, खंडवा, इटारसी, जबलपुर, सतना, कटनी , मानिकपुर, प्रयागराज, पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर और बक्सर रुकेगी. कुल मिलाकर इस पहले रूट में महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और बिहार के किसानों को फायदा मिलने वाला है.

उल्लेखनीय है कि इस साल के यूनियन बजट (Union Budget) में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने किसानों के लिए खास किसान रेल चलाने की घोषणा की थी. दरअसल किसान रेल एक तरह की स्पेशल पार्सन ट्रेन होगी जिसमे अनाज, फल और सब्जियों को लाने ले जाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकेगा.

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां